सोमवार, नवंबर 14, 2011

आणविक सृष्टि बनाम रासायनिक सृष्टि

जीवन की उत्पत्ति के संदर्भ में कई अवधारणाएं प्रचलित रही हैं. भौतिक भी और आध्यात्मिक भी. भौतिकवाद की अवधारणा मुख्य रूप से डार्विन के विकासवाद पर टिकी है जिसमे पानी के बुलबुले में रासायनिक तत्वों के समन्वय से एककोशीय जीव अमीबा और फिर उससे तमाम जलचरों, उभयचरों, थलचरों और नभचरों की एक लंबी प्रक्रिया के तहत उत्पत्ति और विकास की बात कही गयी है. एक हद तक कोशा (सेल) विभाजन के बाद नर-मादा के अस्तित्व में आने और मैथुनी सृष्टि की बात कही गयी है. यह अवधारणा काफी वैज्ञानिक और विश्वसनीय भी लगती है.
इधर अध्यात्म की दुनिया में नज़र दौडाएं तो विभिन्न धर्मों में जीवन की उत्पत्ति की अवधारणाएं प्रस्तुत की गयी हैं लेकिन सबका सार यह है कि इस सृष्टि और उसमें जीवन की उत्पत्ति एक महाशून्य से हुई है. दुर्गा सप्तसती के प्राधानिकं रहस्यम के मुताबिक त्रिगुणमयी महालक्ष्मी ही पूरी सृष्टि का आदि कारण हैं. वे दृश्य (साकार) और अदृश्य (निराकार) रूप से सम्पूर्ण विश्व को व्याप्त कर स्थित हैं. उन्होंने सम्पूर्ण विश्व को शून्य देखकर तमोगुण से चतुर्भुजी महाकाली और सत्वगुण से महासरस्वती को प्रकट किया.इसके बाद उन्हें नर और मादा के जोड़े उत्पन्न करने को कहा. खुद भी एक जोड़ा उत्पन्न किया जिससे ब्रह्मा, विष्णु, शिव नर और लक्ष्मी, सरस्वती और गौरी मादा के रूप में प्रकट हुए. यहां से मैथुनी सृष्टि की शुरुआत हुई. मैथुनी सृष्टि को हम रासायनिक सृष्टि भी कह सकते हैं.
इससे यह परिलक्षित होता है कि मैथुनी सृष्टि के पहले महाशून्य से अमैथुनी सृष्टि हुई थी. महाशुन्य यानी कॉस्मिक रेज. कॉस्मिक रेज से ही परमाणुओं की उत्पत्ति मानी जाती है. या फिर अणुओं तो तोड़ते जाने के बाद अंत में कॉस्मिक रेज या एब्सोल्यूट एनर्जी शेष बचता है. इस एब्सोल्यूट एनर्जी से ही परमाणुओं की उत्पत्ति होती है. इसका सीधा सा अर्थ यह है कि  मैथुनी सृष्टि के पहले आणविक सृष्टि हुई थी या दोनों सृष्टियाँ कुछ समय तक समान रूप से जारी रही थीं. आणविक सृष्टि से उत्पन्न हुए लोग अपने शरीर के परमाणुओं को  इच्छानुसार संगठित या विघटित कर सकते थे. वे मनचाहा आकार या स्वरूप धारण कर सकते थे. उनका व्यक्तित्व भी तीन गुणों सत्व, रज और तम से संचालित होता था लेकिन वे आणविक होने के कारण शक्तिशाली और जीवन मरण के चक्र से परे अर्थात अमर थे. इस वर्ग के जीवों को ही हिन्दू धर्म में देवता और एनी धर्मों में फ़रिश्ता या देवदूत माना गया और सर्वव्यापी बताया गया. तमाम जीवधारी रासायनिक सृष्टि से आणविक सृष्टि में परिणत होने के प्रयास में लगे रहते हैं. यह साधना के जरिये अपनी चेतना को सूक्ष्मतम अवस्था में पहुंचाने के जरिये ही संभव है. तमाम पूजा पद्धतियां इसका मार्ग ही प्रशस्त करती हैं.

-----देवेंद्र गौतम 


(इस अवधारणा पर आपके विचार आमंत्रित हैं)

2 टिप्‍पणियां:

  1. भाई देवेन्द्र गौतम जी ! आपने "अरे भाई साधो "में जो संवाद छेड़ा है वह आदमी की पहली और आखिरी जिज्ञासा के विषय पर छेड़ा गया संवाद है .यह मौलिक तो है ही, हमारे जैसे लोगों के लिए अत्यंत रोचक भी है.वैसे इस विषय में रूचि रखने वाले हर आदमी के लिए यह रोचक ही होगा ,जरा सी सोचने की तो बात है..जिस आदमी को इस बात का पता मिल जाए कि जिस ब्रम्हांड का वह उपभोक्ता है वह आखिर है क्या ?हुआ क्या?हुआ कैसे?तो उसके लिए जीवन कितना रोचक हो जाएगा ?"जिंदगी यकलख्त पैराहन बदल कर आएगी "...सब कुछ बदल जाएगा. यह संवाद प्रारंभ करने के लिए साधुवाद !
    आप जिस आणविक सृष्टि की बात कर रहे हैं,,उसका सम्बन्ध सृष्टि-प्रारंभ के भौतिकवादी सिधांत "महा-विस्फोट "से जुड़ा है.इस अवधारना को मानने वालों का मन्ना है की शून्य में एक महा विस्फोट हुआ जिसके परिणाम-स्वरुप आग के विशालकाय पिंड महा-शून्य में बिखर गए .यही अग्नि-पिंड कालांतर में ठन्डे होते चले गए .कालांतर में जल आया और जल से ही मौथुनी सृष्टि का आरम्भ हुआ इसे आप रासायनिक सृष्टि भी कह सकते हैं. यह एक विस्तृत अवधारना का लब्बो-लबाब है.
    इसी अवधारना पर आधारित है आणविक सृष्टि की अवधारना.महा-विस्फोट से छिटके अग्नि.पिंडों के सबसेछोटे घटक हैं अणु.इन्ही अणुओं की बाह्य संरचना में इनकी घनी-भूतीकरण की प्रक्रिया और आतंरिक संरचना में अन्तर्निहित एलेक्ट्रों,फोटोन और न्युत्रोअन के अनुपातों में भिन्नता ही पदार्थों में "गुण-धर्म- भिन्नता"के लिए जिमीदार हैं यह रासायनिक सृष्टि के पूर्व की प्रक्रिया है यानि ,महा-विस्फोट और रासायनिक-सृष्टि के उद्भव के बीच में घटित प्रक्रिया..जिन लोगों को इस घटना का सिर्फ ज्ञान ही नहीं विज्ञानं की भी जानकारी हो वे अणुओं की संरचना में आनुपातिक बदलाव ला कर पदार्थों का रूप बदल सकते हैं यहाँ तक कि अपने भौतिक शारीर का भी रूप-परिवर्तन कर सकते हैं. इसको "सूर्य-विज्ञान "के नाम से जाना जाता है...संवाद को आगे बढाया जाए.............
    . .. पवन श्रीवास्तवा.

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाई देवेन्द्र गौतम जी ! आपने "अरे भाई साधो "में जो संवाद छेड़ा है वह आदमी की पहली और आखिरी जिज्ञासा के विषय पर छेड़ा गया संवाद है .यह मौलिक तो है ही, हमारे जैसे लोगों के लिए अत्यंत रोचक भी है.वैसे इस विषय में रूचि रखने वाले हर आदमी के लिए यह रोचक ही होगा ,जरा सी सोचने की तो बात है..जिस आदमी को इस बात का पता मिल जाए कि जिस ब्रम्हांड का वह उपभोक्ता है वह आखिर है क्या ?हुआ क्या?हुआ कैसे?तो उसके लिए जीवन कितना रोचक हो जाएगा ?"जिंदगी यकलख्त पैराहन बदल कर आएगी "...सब कुछ बदल जाएगा. यह संवाद प्रारंभ करने के लिए साधुवाद !
    आप जिस आणविक सृष्टि की बात कर रहे हैं,,उसका सम्बन्ध सृष्टि-प्रारंभ के भौतिकवादी सिधांत "महा-विस्फोट "से जुड़ा है.इस अवधारना को मानने वालों का मन्ना है की शून्य में एक महा विस्फोट हुआ जिसके परिणाम-स्वरुप आग के विशालकाय पिंड महा-शून्य में बिखर गए .यही अग्नि-पिंड कालांतर में ठन्डे होते चले गए .कालांतर में जल आया और जल से ही मौथुनी सृष्टि का आरम्भ हुआ इसे आप रासायनिक सृष्टि भी कह सकते हैं. यह एक विस्तृत अवधारना का लब्बो-लबाब है.
    इसी अवधारना पर आधारित है आणविक सृष्टि की अवधारना.महा-विस्फोट से छिटके अग्नि.पिंडों के सबसेछोटे घटक हैं अणु.इन्ही अणुओं की बाह्य संरचना में इनकी घनी-भूतीकरण की प्रक्रिया और आतंरिक संरचना में अन्तर्निहित एलेक्ट्रों,फोटोन और न्युत्रोअन के अनुपातों में भिन्नता ही पदार्थों में "गुण-धर्म- भिन्नता"के लिए जिमीदार हैं यह रासायनिक सृष्टि के पूर्व की प्रक्रिया है यानि ,महा-विस्फोट और रासायनिक-सृष्टि के उद्भव के बीच में घटित प्रक्रिया..जिन लोगों को इस घटना का सिर्फ ज्ञान ही नहीं विज्ञानं की भी जानकारी हो वे अणुओं की संरचना में आनुपातिक बदलाव ला कर पदार्थों का रूप बदल सकते हैं यहाँ तक कि अपने भौतिक शारीर का भी रूप-परिवर्तन कर सकते हैं. इसको "सूर्य-विज्ञान "के नाम से जाना जाता है...संवाद को आगे बढाया जाए.............
    . .. पवन श्रीवास्तवा.

    उत्तर देंहटाएं